अवैध कब्जेदारो पर फिर एक बार केडीए का गरजा बुलडोजर नौबस्ता से बिनगवां स्थानांतरित मौरंग मंडी का मामला

0
102

कानपुर: बिधनू थानाक्षेत्र स्थित मौरंग मंडी में एक बार फिर से गरजा बुलडोजर नौबस्ता से बिनगवां स्थानांतरित मौरंग मंडी का मामला
नौबस्ता से बिनगवां स्थानांतरित हुई मौरंग मंडी के कारोबारियों ने मंडी में सड़क के दोनों तरफ टट्टर के साथ पक्की बनी अवैध दुकानों की केडीए अधिकारियों से शिकायत की थी। इन दुकानों की वजह से मंडी में मौरंग गिट्टी लदे ट्रकों को लाने ले जाने की लिए दिक्कत के साथ अंदर वैध व्यापारियों का कारोबार प्रभावित होता था। बुधवार को तहसीलदार राजीव रतन प्रताप सिंह व व्यास नारायन की अगुवाई में प्रवर्तन अधिकारी जोन-3 आलोक कुमार वर्मा और के के सिंह ने बुलडोजर चलावाकर सड़क किनारे बने 12 अवैध कब्जों को गिराया। साथ ही सड़क किनारे छोटे दुकानदारों के टट्टर व ठेले हटवाकर सड़क को अतिक्रमण मुक्त किया। बवाल करने की आशंका पर, बिधनू व नौबस्ता थाने का फोर्स मौजूद रहाआलोक कुमार वर्मा जोन 3 प्रवर्तन अधिकारी की अगुवाई में अवैध कब्जों को हटाया गया।मौके पर के के सिंह प्रवर्तन अधिकारी जोन 3 केडीए राजीव रतन प्रताप सिंह तहसीलदार, व्यास नारायण तहसीलदार बिधनू कार्यवाहक थानाध्यक्ष सुभाष चंद्र वह सर्किल फोर्स मौजूद रहा।

कुछ दुकानदारों द्वारा जब दुकानों को तोड़े जाने का विरोध किया गया। तो मौके पर मौजूद बिधनू थाने के कार्यवाहक थानाध्यक्ष सुभाष चंद्र द्वारा दुकानदारों को समझाया गया।अगर उनके पास कागज हैं तो वह दिखाएं जो भी कार्रवाई की जा रही है वह नियमानुसार की जा रही है।अगर उनके द्वारा इस तरह कार्यवाही पर व्यवधान डाला जाएगा।तो उन पर आवश्यक कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी।जिसके बाद ग्रामीण और दुकानदार पीछे हट गए।
  • अवैध दुकानों को हटाने के दौरान मौके पर पुलिस मुस्तैद दिखाई दी बिधनू सर्किल का फ़ोर्स के साथ ही केडीए की टीम नगर निगम के कर्मचारी मौजूद रहे। केडीए अधिकारियों का कहना था कि उन्हें शिकायत मिली थी।कि कुछ दुकानदारों द्वारा अवैध ढंग से दुकानें बनाई गई हैं।जिनका नक्शा पास नहीं हुआ है।उसके बाद उन पर यह कानूनी कार्रवाई की जा रही है।
पुलिस प्रशासन का पूरा सहयोग उनके साथ है आज यहां पर लाखों रुपए की जमीन से इन कब्जों को हटाया गया हैं। पूर्व में भी कार्यवाही हुई है पर कहीं ना कहीं यह लोग इस तरह से कब्जा करते हैं।अब भविष्य मैं ऐसे लोगों को चिन्हित कर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

पूर्व में भी कई बार चला है अभियान

अगर मौरंग मंडी की बात की जाए तो जब से नौबस्ता से मौरंग मंडी को यहां पर स्थानांतरित किया गया है।कई बार केडीए द्वारा अवैध कब्जों को लेकर यहां पर अभियान चलाया है। पर इसके बाद भी कई बार यहां पर लोगों द्वारा अवैध कब्जे किए गए। बराबर इस तरह होने से यहां पर होने वाले व्यापार के साथ ही आम लोगों को भी परेशानियों का सामना करना पड़ा है। वहीं कब्जेंदारों का कई बार यह कहना होता है यह उनकी खेती की जमीन है।जिसमें उन्हें दुकान बना रखी है।उसके बाद भी केडीए द्वारा कार्यवाही की जा रही है और उन्होंने कोर्ट की शरण भी ले रखी है। आला अधिकारी यह बात सुनने को तैयार नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here